Tuesday, August 21, 2018

सनातन संस्था से घबराये भ्रष्ट नेता और मीडिया, कर रहे हैं बदनाम

21 August 2018

🚩गोवा में स्थित सनातन संस्था ने अनेक भ्रष्टाचारी नेताओं, बिकाऊ मीडिया, ईसाई मिशनरियों, जिहादीयों की पोल खोल के समाज के सामने रख दी है और उनको न्यायालय में भी घसीटा है जिसके कारण इन विधर्मियों को सुई की नाई सनातन संस्था चुभ रही है उसके लिए बोखलाए हुए है ।

🚩मुंबई के नालासोपारा के गौरक्षक श्री वैभव राऊत को 10 अगस्त 2018 को  महाराष्ट्र आतंकवादविरोधी दल ने गिरफ्तार कर लिया,
उन पर आरोप लगाया गया है कि उनके पास से बम बनाने का साहित्य व विस्फोटक सामग्री मिली ।
Deaf politicians and media, afraid of Sanatan Sanstha, are notorious

🚩आतंकवादविरोधी दल भले विरोध करें पर जनता का कहना है कि जैसे साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, कर्नल पुरोहित आदि के घर पर पुलिस ने ही बम विस्फोटक सामग्री रखकर उनको गिरफ्तार किया और प्रताड़ित किया गया था उसके बाद सालों तक जेल में रहे ।

🚩ऐसा ही प्रकरण वैभव राऊत के साथ हो रहा ऐसा लग रहा है क्योंकि वे एक गौभक्त थे, कोई भी गौभक्त देश विरोधी कार्य कभी नही कर सकता है ।

🚩वैभव राऊत महाराष्ट्र में गौरक्षा कर रहे थे, वे सनातन संस्था के कई कार्यक्रमों में जाते थे लेकिन बिकाऊ मीडिया झूठ बोलकर जनता को गुमराह कर रही है कि वैभव राऊत सनातन संस्था के साधक है ।

🚩अधिवक्ता पुनाळेकर ने बताया कि श्री. वैभव राऊत गोवंश रक्षा कार्यकर्ता के रूप में काम करते हैं । महाराष्ट्र में गोवंश हत्याबंदी की विधि है; परंतु तब भी कुछ धर्मांध गोवंश की हत्या करते हैं और उसे बेचते हैं । श्री. वैभव राऊत ने सदैव इसका विरोध किया है । उसी के कारण श्री. वैभव धर्मांधों की आंखों में चूभ रहे थे । बकरी ईद की पृष्ठभूमिपर गोहत्या के लिए श्री. वैभव द्वारा विरोध न हो; इसके लिए उन्हें अपना जिला छोडकर जाने के नोटिस भी दिए गए थे । आज श्री. वैभव को जिस प्रकार से इस प्रकरण में फंसाया गया है, उसे देखते हुए इसके पीछे गोवंश की हत्या करनेवाले बीफ माफिया (गोमांस की तस्करी करनेवाले लोग) हैं ।

🚩पुनाळेकर की बात सही सिद्ध हो रही है क्योंकि मंगलवार (21/8/2018) को तेलंगाना के टाइगर राजा सिंह गौरक्षा कर रहे थे तो पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया, राजा सिंह गौमाता के परम भक्त हैं इसलिए गौरक्षा  के लिए भाजपा से इस्तीफा भी दे दिया ।

🚩भारत में आज भी हिन्दूनिष्ठ लोगों के साथ षड्यंत्र चल रहा है । वैभव राउत और टाइगर राजा सिंह ने गौरक्षा के लिए कदम उठाया तो गिरफ्तार कर लिया, लेकिन अभी तक एक भी गौतस्कर को गिरफ्तार नही किया गया ।

🚩मीडिया और भ्रष्ट नेता वैभव राउत की आड़ लेकर सनातन संस्था को बदनाम कर रहे हैं, और उसपर बेन लगाने की मांग कर रहे हैं, क्योंकि वे अच्छी तरह जानते हैं कि सनातन संस्था बन्द हो जाये तो हमे राष्ट्र विरोधी कार्य करेंगे तो कोई बोलेगा नही ओर हम आराम से जिंदगी जिएंगे ।

🚩भ्रष्टाचारी नेताओं, सेक्युलर, वामपंथी और मीडिया को ये पता नही है कि सनातन संस्था की जड़ पूरे देश मे फैली है अगर थोड़ी भी आंच आई तो करोड़ों हिन्दूओं का आक्रोश झेलना पड़ेगा, सनातन संस्था बंद करने से पहले शायद आपकी दुकान बंद न हो जाए इसका ध्यान रखना ।

🚩हिन्दुओं को भी जागना होगा जो भी हिंदुत्व के लिए कार्य करता है उसे टारगेट किया जा रहा है । एक के बाद एक हिंदुनिष्ठ को खत्म करने का प्लान करने का प्लान किया जा रहा है ।

🚩वर्तमान में भले हिंदूवादी कहलाने वाली सरकार हो, लेकिन इस सरकार ने अभी तक कोई हिंदुत्व का कार्य किया ऐसा दिखाई नही दे रहा है, लेकिन हाँ ये जरूर है कि जो हिंदुत्व का कार्य कर रहे है उनको झूठे केस बनाकर जेल भेजा जा रहा है इससे सिद्ध होता है कि आज भी षड्यंत्र चल रहे हैं ।

🚩इलेक्ट्रॉनिक मीडिया चैनल ज़ी न्यूज़ जो अपने को हिंदूवादी बताती है, वही पोल कर रही है कि क्या सनातन संस्था को बंद कर दी जाए ? इससे सिद्ध होता है कि ये लोग केवल हिंदुत्व का मुखटा पहनकर हिन्दुओ को लूट रहे है हिंदूवादी चैनल एकमात्र सुदर्शन न्यूज़ ।

🚩हिन्दू आप सावधान रहें, ऊपर हिंदूवादी दिखने वाले और षड्यंत्र करने वालो से तभी हिन्दू संस्कृति बचेगी ।

 🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻


🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk


🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt

🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf

🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX

🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG

🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Monday, August 20, 2018

उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने फरमान किया जारी : 24 घण्टे में गौहत्या करे बन्द

20 August 2018
http://azaadbharat.org
🚩भारत देश में गाय का बड़ा योगदान रहा है और उसकी महत्ता भी भारी है । गाय माता के दूध-दही-घी-मूत्र-गोबर से बने पंचगव्य से भयंकर बीमारियां भी ठीक हो जाती है, गाय के अंदर 33 करोड़ देवता का वास होता तभी तो भगवान श्री कृष्ण भी स्वयं गाये चराते थे, यहाँ तक बताया गया है की गाय के गोबर से जहाँ लीपन किया जाता है वहाँ अगर परमाणु बम भी गिरे तो भी उसकी असर नही होती है । गाय की उपयोगिता के बारे में कितना भी लिखो वो कम है ।
🚩देशवासी गाय को माता मानते हैं और उसका पूजन करते हैं, लेकिन दुर्भाग्य है कि आज भी देश में हजारों गाएं कट रही है, लेकिन वहीं एक अच्छी खबर भी आई है कि उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने गौहत्या पर पूर्णतः प्रतिबंध लगा दिया है ।
Uttarakhand High Court commits verdicts: Cow do not go off in 24 hours
🚩उत्तराखंड में गाय और अन्य आवारा पशुओं की सुरक्षा के लिए अब न्यायालय भी सामने आया है । उच्च न्यायालय ने राज्य में गौहत्या पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है ।
🚩कार्यवाहक चीफ जस्ट‍िस राजीव शर्मा और जस्ट‍िस मनोज कुमार तिवारी की खंडपीठ ने अपने आदेश में पूरे उत्तराखंड में गाय, बैल, सांड, बछिया या बछड़े का, किसी भी उद्देश्य के लिए हत्या पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है ।
🚩न्यायालय ने ‘परेन्स पैट्रिए’ सिद्धांत का उपयोग करते हुए गाय और अन्य आवारा पशुओं की भलाई के लिए निर्देश जारी किए हैं । लैटिन शब्द परेन्स पैट्रिए का मतलब है, ‘अपने देश के माता-पिता’ और इस सिद्धांत के तहत किसी राज्य को यह अधिकार होता है कि वह ऐसे निरीह प्राणियों के संरक्षण के लिए कानून बनाए, जो अपनी रक्षा स्वयं नहीं कर सकते हैं ।
🚩न्यायालय ने राज्य के सभी सर्किल ऑफिसर को आदेश दिया है कि 24 घंटे के अंदर यह सुनिश्चित करें कि अब किसी भी गाय की हत्या न हो ।’ इसके अलावा न्यायालय ने यह निर्देश भी दिए हैं कि ‘कोई भी पशु यदि सड़कों, चौराहों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर पाया जाता है तो उनके मालिक पर मुकदमा कायम किया जाए ।'
🚩न्यायालय ने सड़कों पर यातायात को सुचारु रूप से चलाने के लिए राष्ट्रीय राजमार्गों तथा राज्य के राजमार्गों के विभाग, ग्राम पंचायतों और नगर निगमों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है कि ‘सड़कों पर कोई भी आवारा पशु घूमता दिखाई न दे ।' न्यायालय ने यह भी कहा कि आवारा पशुओें को सड़कों से हटाते समय पूरी दया और करुणा दिखाई जाए और यह ध्यान रहे कि उन्हें किसी प्रकार के अनावश्यक दर्द का सामना न करना पड़े ।
स्त्रोत : आज तक
🚩आपको बता दें कि कुछ समय पहले हैदराबाद उच्च न्यायालय के जज बी. शिवा शंकर राव ने कहा था कि गाय को राष्ट्रीय पशु का दर्जा मिलना ही चाहिए । साथ ही उन्होंने गाय को पवित्र राष्ट्रीय धरोहर बताते हुए यह भी कहा कि पवित्र गाय का स्थान मां और भगवान के तुल्य है ।
🚩कुछ समय पूर्व राजस्थान उच्च न्यायालय ने भी गाय को राष्ट्रीय पशु का दर्जा देने की बात कही थी ।
भारत के ऐसे सपूत वीर न्यायधीशों को प्रणाम है जो करोड़ों हिन्दुओं की भावनाओं को समझ रहे हैं और गाय माता की महत्ता समझे हैं ।
🚩आज जो हमारे देश मे भूकंप, बाढ़ आदि आते हैं, उसका कारण भी गौहत्या ही है, जब गाय की हत्या हो रही होती है, तब उसकी चीख जो निकलती है उससे पृथ्वी माता काँपने लगती है । केरला में सरेआम गौहत्या की गयी थी, आज उसका परिणाम सभी केलरवासी भुगत रहे हैं ।
🚩शास्त्रों में लिखा है कि
भूकंप कहे गाइ की गाथा।
कांपे धरा त्रास अति जाता।
अथार्त् जब गौमाता को कष्ट होता है, तभी पृथ्वी कांपती है अर्थात भूकम्प आता है ।
🚩अथर्ववेद के अनुसार- गाय समृद्धि का मूल स्रोत व प्रचुरता की द्योतक है एवं सृष्टि के पोषण की स्रोत व जननी है । गाय माता में 33 करोड़ देवताओं का वास हैं ।
🚩गाय को सताना घोर पाप है । उसकी हत्या से तो नर्क के द्वार खुल जाते हैं तथा करोड़ों जन्मों तक दुख भोगना पड़ता है ।
🚩"गौमय वसते लक्ष्मी" यह हमारी प्राचीन भारतीय वैज्ञानिक संस्कृति का मूल-मंत्र रहा है ।
🚩आज के वैज्ञानिक भी कहते हैं कि गाय ही एकमात्र ऐसा पवित्र प्राणी है जो ऑक्सीजन ग्रहण करता है और ऑक्सीजन ही छोड़ता है ।
🚩रुसी वैज्ञानिक शिरोविच ने बताया है कि 1 चम्मच गौघृत जला कर हम 1 टन  प्राणवायु प्राप्त कर सकते हैं ।
🚩बता दें कि एलोपैथिक दवाओं, रसायनिक खादों, प्रदूषण आदि के कारण शरीर में एकत्रित विष गाय के दूध से ही नष्ट होता है ।
🚩गौ माता का दूध,दही,गौ-मूत्र,गोबर आदि जीवन के लिए उपयोगी होने के साथ-साथ वरदान स्वरुप है ।
🚩अमेरिका केंसर की दवा बनाने के लिए भारत से गौमूत्र आयात करता है और हम लोग पवित्र गौ-माता को कत्लखाने भेज देते हैं । ये उचित नहीं है ।
🚩प्रत्येक हिन्दुस्तानी का यह परम् कर्तव्य है कि वो गौ-गीता और संतों का सम्मान करें । ऐसा करेंगे तभी हम देश को सही दिशा की ओर ले जा पाएंगे और देश को गुलाम होने से बचा पाएंगे ।
🚩मोदी सरकार ने जैसे रातोंरात नोटबन्दी कर दी थी, वैसे ही रातोंरात घोषणा कर देनी चाहिए कि पूरे देश में गौहत्या बंद हो और गाय को राष्ट्रीय माता घोषित करके गौहत्यारों को फांसी की सजा का प्रावधान कर देना चाहिए ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Sunday, August 19, 2018

आज़ादी के 72 वर्ष बाद भी कुपोषण से हर साल होती है, हजारों बच्चों की मौत...

19 August 2018

🚩एक समय था जब भारत सोने की चिड़िया कहलाता था, फिर एक समय ऐसा आया जब क्रूर, आतताई, आक्रमणकारी, लुटेरे मुगलों और अंग्रेजों ने भारत देश लो लूटा, लेकिन फिर लाखों देशभक्तों के बलिदान के बाद देश आजादी का सूरज उदय हुआ, लेकिन फिर देश के ही कुछ भ्रष्ट नेताओं ने लूट देश को लूट लिया जिसकी वजह से आज भारत में गरीबी बढ़ती ही जा रही है ।

🚩आजादी के समय जहाँ एक 
रुपए की कीमत एक डॉलर के  बराबर होती थी, वहीं आज एक डॉलर की कीमत लगभग 70 रुपए है । 

🚩भ्रष्ट नेताओं के कारण आज देश में किसान आत्महत्या कर रहे हैं और गरीब बच्चे मर रहे हैं ।
72 years of independence also happens every year
with malnutrition, thousands of children die ...

🚩देश अपनी स्वतंत्रता की 72वीं सालगिरह मना रहा है, परंतु स्वतंत्रता के सात दशक बाद भी भारतीय बच्चों को अच्छा जीवन स्तर नहीं मिल पा रहा है । एक ओर देश में हर साल लगभग 3000 बच्चे कुपोषण की वजह से मर जाते हैं । वहीं दूसरी ओर गरीबी के कारण लाखों बच्चों को सड़कों पर रहने के लिए मजबूर होना पड़ता है । विशेषज्ञों का कहना है कि भारत ने संयुक्त राष्ट्रीय के 192 सदस्य राज्यों के साथ साल 2030 तक टिकाऊ विकास हासिल करने का लक्ष्य तय किया था । इस तथ्य के बावजूद गरीब बच्चों की संख्या बढती जा रही है । हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया (एच.सी.एफ.आइ.) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने बताया कि 5.9 करोड़ से अधिक बच्चे स्कूल नहीं जा पाते हैं । देश में सड़क पर रहनेवाले बेघर बच्चों की संख्या खतरनाक स्तर तक पहुंच चुकी है । उन्हें रोजाना जिन समस्याओं का सामना करना पड़ता है, उससे यह स्थिति और खराब होती जा रही है । भोजन की कमी से लेकर यौन शोषण तक इनके सामने कठिनाइयों की भरमार है । डॉ. अग्रवाल ने यह भी कहा कि यह एक गंभीर मेडिको-लीगल आपात स्थिति है ।

🚩गरीबी उन्मूलन, भूखमरी का अंत और स्वस्थ जीवन की सुनिश्चितता जैसे बाल केंद्रित लक्ष्य, केवल तभी हासिल हो सकते हैं, जब सरकार और निजी संस्थाएं मजबूत ढांचे और नीतियों की स्थापना करने और उन्हें लागू करने के लिए काम करें । सामाजिक कार्यकर्ता व प्रयास एन.जी.ओ. के संस्थापक आमोद के कंठ ने कहा कि सड़कों पर रहनेवाले बच्चे ज्यादातर निर्माण स्थलों या रेस्तरां में दिहाड़ी मजदूर के रूप में काम करते हैं । शहरों में उनके साथ शारीरिक रूप से दुर्व्यवहार किया जाता है और दिन में सात घंटे से अधिक समय तक काम कराया जाता है । इसके अलावा उन्हें काम के दौरान पीटा भी जाता है । डॉ. अग्रवाल ने आगे कहा कि भारतीय संविधान का अनुच्छेद-21 बच्चों सहित सभी को गरिमा के साथ जीवन के अधिकार की गारंटी देता है । इस अधिनियम की समीक्षा करने और यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि बेघर बच्चों और समाज के निम्न आर्थिक स्तर पर जी रहे लोगों की अनदेखी न की जाए ।

🚩उदाहरण के लिए, युवावस्था में प्रवेश करनेवाली लड़कियों को साप्ताहिक रूप से गुड़-चना (लौह और प्रोटीन) दिया जाना चाहिए । बच्चों का स्वास्थ्य और सुरक्षा एक जिम्मेदारी है, जिसे अनदेखा नहीं किया जा सकता है । बच्चों में बुनियादी पोषण सुनिश्चित करने पर गंभीरता से काम करना चाहिए । अक्टूबर में होने वाले स्वास्थ्य मेले में इस मुद्दे पर विशेष रूप से जोर दिया जाएगा । प्रयास जुवेनाइल ऐड सेंटर (जे.ए.सी.) सोसायटी ने सड़क पर जिंदगी बितानेवाले बच्चों के सामने आनेवाली कठिनाइयों को लेकर एक कार्यक्रम किया । डॉ. के.के. अग्रवाल और आमोद के कंठ ने बाल यौन शोषण, कुपोषण और बच्चों की अन्य स्वास्थ्य समस्याओं पर चिंता जाहिर की । और नीति निर्माताओं का ध्यान इस तरफ खींचा कि किस तरह से बच्चों का जीवन स्तर बेहतर बनाया जा सकता है । उन्होंने कहा कि बच्चों के लिए विशेष नीतियां बना कर काम करने से ही सशक्त व विकसित भारत के लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है ।
स्त्रोत : जनसत्ता

🚩श्रम और #रोजगार #मंत्रालय की रिपोर्ट (2011) उठाकर देखें तो लगभग 12 करोड़ बच्चों का बचपन होटलों, उद्योगों और सड़कों पर बीत रहा  है । 33 फीसदी वयस्क और तीन वर्ष से कम उम्र के 46 फीसदी बच्चे कुपोषण के शिकार हैं ।

🚩देश में हर 35 मिनट पर एक #किसान #खुदकुशी कर रहा है । एक रिपोर्ट के अनुसार 10.8 करोड़ नवयुवक आज भी बेरोजगार हैं । 

🚩15 अगस्त 1947 को भारत न सिर्फ #विदेशी कर्जों से मुक्त था, बल्कि उल्टे #ब्रिटेन पर भारत का 16.62 करोड़ रुपए का कर्ज था । आज देश पर 480.2 अरब डॉलर (करीब 317 खरब रुपये)  से भी ज्यादा  विदेशी कर्ज है । भारत में किसी नवजात के पैदा होते ही उस पर अप्रत्यक्ष रूप से करीब तीन हजार रुपये का विदेशी कर्ज चढ़ जाता है । भारत का #स्विस_बैंकों में जमा विदेशी धन करीब 8,392 करोड़ रुपये है ।

🚩लोगों ने सोचा अब शोषक #सरकार (#विदेशी_सरकार) चली गयी तो अब हमलोग सुखी होंगे, बेकारी मिटेगी, गरीबी हटेगी, भेदभाव की खाईं पटेगी, समानता आएगी, सामाजिक समानता मिलेगी, लेकिन 70 साल बाद भी जो सपने आजादी के दिवानों ने देखे थे, वे साकार हुए क्या ?

🚩भारत सरकार को अब इन पर ठोस कदम उठाने चाहिए, तभी देश आगे बढ़ पाएगा ।


🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻


🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk


🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt

🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf

🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX

🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG

🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ