Tuesday, May 21, 2019

आपको कुछ घटनाएं बता रहे हैं, कैसे निर्दोष पुरुषों को रेप केस में फँसाया गया है ?

21 मई 2019

🚩निर्दोष लोगों को फँसाने के लिए बलात्कार के नए कानूनों का व्यापक स्तर पर हो रहा इस्तेमाल आज समाज के लिए एक चिंतनीय विषय बन गया है ।

🚩न्यायाधीश निवेदिता शर्मा ने बताया कि पुरूषों के खिलाफ रेप के झूठे मामलों से बचाने के लिए ऐसे कानून बनाये जाएं, जो उन्हें बचा सके ।
🚩रेप केस ओर 20 लाख मांगने पर आत्महत्या-

नाहन बाल्मीकि बस्ती निवासी 32 वर्षीय योगेश राजगढ़ न्यायालय से एक महीना पहले ट्रांसफर होकर शिलाई के जेएमआईसी कोर्ट में तैनात हुआ था।बीते 11 मई को अचानक योगेश ने अपने घर पर जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली थी।

🚩13 मई को मृतक योगेश की पत्नी किरण जब घर में बिस्तर झाड़ रही थी तो उसे चादर के नीचे योगेश के हाथ से लिखा सुसाइड नोट मिला।

मृतक की पत्नी कुछ सुसाइड नोट को लेकर कच्चा टैंक पुलिस चौकी पहुंच गई। सुसाइड नोट को पढ़ने के बाद पुलिस भी सकते में आ गई। क्योंकि सुसाइड नोट में राजगढ़ की कथित महिला के द्वारा झूठे रेप केस में फंसाने की एवज में 20 लाख रुपए की मांग की गई थी।

🚩मृतक के द्वारा महिला के साथ साथ राजगढ़ के ही दो व्यक्ति के नाम भी शामिल किए हैं।पुलिस ने सुसाइड को आधार मानते हुए उसकी पत्नी की ओर से अंतर्गत धारा 306 तथा 34 भारतीय दंड संहिता के तहत दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है ।



🚩रेप का झूठा केस दर्ज कराया, दो महिलाओं को 7-7 साल की सजा-

राजगढ़ (अलवर).रैणी थाना क्षेत्र के परवैणी गांव की दो महिलाओं को ज्यादती की झूठी रिपोर्ट दर्ज कराने पर कोर्ट ने 7-7 वर्ष के कठोर कारावास की सजा दी है। दोनों महिलाओं को आईपीसी की धारा 211 में दोषी मानते हुए 50-50 हजार रु. का अर्थदंड भी लगाया गया है।

🚩परवैणी की सीता देवीबैरवा ने गांव के ही शिवदयाल बैरवा तथा अंजू देवी बैरवा ने जगदीश बैरवा के खिलाफ दुष्कर्म करने के अलग-अलग मामले 5 जनवरी 2015 को दर्ज कराए थे। पुलिस ने दोनों के मजिस्ट्रेट के समक्ष 164 के बयान कराए। इन महिलाओं ने बयान में कहा कि आरोपियों ने दुष्कर्म नहीं किया, रंजिश के कारण झूठे केस दर्ज कराए हैं।

🚩दोनों पक्षों को सुनने के बाद अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश सीमा जुनेजा ने दोनों महिलाओं को यह सजा सुनाई।

🚩फर्जी रेप केस करके लाखों रुपये ऐठने का धंधा-

जयपुर : ग्राम पुरुषोत्तम पुरा निवासी कृष्ण गुर्जर ने रिपोर्ट में बताया कि वह निजी अस्पताल के बाहर चाय की थड़ी संचालित करता है। वहां नारनौल निवासी तेजादेवी बावरिया आई। उसने उसके साथ मेलजोल बढ़ा लिया। वह उससे मोबाइल फोन पर बात करने लग गई। इसके बाद तेजादेवी व महिला वकील ज्योति शर्मा व एक अन्य महिला उसके पास आई और उसे बलात्कार के झूठे मामले में फंसाने की धमकी दी।

🚩इन्होंने इस मामले में राजीनामे के लिए 6 लाख रुपए की मांग की। उसे लगातार उसके खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराने की धमकियां मिलने पर उसने परिजनों व रिश्तेदारों से व्यवस्था करके एक लाख 80 हजार रुपए महिला वकील को दे दिए। इसके बाद आरोपियों ने एक शपथ पत्र नोटेरी से तस्दीक करवा कर उसे दे दिया जिसमें महिला ने स्वीकार किया कि उसके साथ बलात्कार नहीं किया गया है। आरोपियों ने उससे कहा कि यदि इस मामले में कोई शिकायत थाने में की तो उसे दूसरे झूठे मामले में फंसा देंगे।

🚩गौरतलब है इससे पहलेे सुनील कुमार स्वामी ने नाथी देवी उसके पति हिम्मत, वकील ज्योति शर्मा व राजेन्द्र गुर्जर के खिलाफ बलात्कार के झूठे मामलें में फंसाने की देकर धमकी देने व राजीनामा के लिए रुपए देने का दबाव बना उनसे 5 लाख 50 हजार रुपए ऐंठ लिए थे। इसके बाद दूसरे मामले में सुरेश सिंह उसके साथी से भी आरोपियों ने 7.5 लाख हड़प लिए थे।


🚩उम्रकैद की सजा से 2 भाई बरी, लेकिन जेल में गुजरे 10 साल-

फरीदाबाद जिले में एक नाबालिग लड़की पास के ही एक लड़के से प्रेम करती थी, और उसे प्रेम पत्र भी लिखे थे । ये पत्र उसके चाचाओं के हाथ लग गए और उन्होंने लड़की को समझाया और जब वो नहीं मानी तो थप्पड़ जड़ दिए । इससे तिलमिलाई लड़की ने 22 अगस्त 2001 को दोनों चाचाओं जय सिंह और शाम सिंह पर रेप का आरोप लगाया ।

🚩पंचायत में दोनों ने लड़की को थप्पड़ मारने का बयान देते हुए हाथ उठाने की बात स्वीकार कर ली जिसके लिए उन्होंने लिखित में माफी भी मांगी, लेकिन पंचायत से नाखुश लड़की ने पुलिस को रेप की कहानी सुनाई और चाचाओं को जेल भिजवा दिया । हालांकि मेडिकल जांच में ना तो रेप की पुष्टि हुई ना ही कपड़ों पर या कहीं भी कोई ऐसा निशान या सबूत मिला जिससे रेप की तस्दीक हो सके ।

🚩ट्रायल कोर्ट ने सुनाई सजा-

जिसके बाद मामला फास्ट ट्रैक कोर्ट पहुंचा। कोर्ट ने शुरुआती जांच में आरोपों और बचाव पक्ष की ओर से पेश सबूतों को बिल्कुल अलग-अलग माना, अर्थात आरोपों की पुष्टि नहीं होने पर आरोपियों को बरी कर दिया, लेकिन फिर से ट्रायल की जरूरत बताई।

🚩ट्रायल कोर्ट ने फिर से मामला सुना और दोनों आरोपी भाइयों को दोषी मानते हुए जून 2011 में उम्रकैद की सजा सुनाई। फैसले के खिलाफ आरोपी भाइयों ने पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में अपील की तो वहां भी निराशा हाथ लगी। हाईकोर्ट ने निचली अदालत की सजा बरकरार रखी।

🚩जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट में अपील हुई, लेकिन तब तक जय सिंह को जेल में 10 साल और शाम सिंह को 7 साल हो चुके थे । सुप्रीम कोर्ट का फैसला लिखने वाले जस्टिस एम शांतानागोदार ने साफ लिखा है कि अभियोजन की सारी दलीलें और सबूत फिसड्डी और कृत्रिम है क्योंकि ना तो मेडिकल रिपोर्ट से कोई पुष्टि हुई और ना ही बयानों में मेल दिखा। ऐसे में बेंच इस नतीजे पर पहुंची कि अभियोजन ने आरोपियों को जबरन फंसाने के लिए मनगढ़ंत और संदेह के आधार पर कहानियां गढ़ीं।

🚩आपने देखा लड़कियां पैसे ऐंठने या बदला लेने की भवनाओं से कैसे झूठे रेप केस लगा देती हैं ऐसे कई  अंतराष्ट्रीय गिरोह काम कर रहे हैं जो राष्ट्रहित में क्रांतिकारी पहल करनेवाली सुप्रतिष्ठित हस्तियों, संतों-महापुरुषों एवं समाज के आगेवानों के खिलाफ इन कानूनों का कूटनीतिपूर्वक अंधाधुंध इस्तेमाल हो रहा है ।

🚩महिलाओं की सुरक्षा के लिए कानून जरूरी है परंतु आज साजिश या प्रतिशोध की भावनाओं से निर्दोष लोगों को फँसाने के लिए बलात्कार के आरोप लगाकर कानून का भयंकर दुरुपयोग हो रहा है । इसको रोकने के लिए कानून में संशोधन करना अत्यंत जरूरी है ।

🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻

🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk

🔺 facebook :

🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt

🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf


🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG

🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Monday, May 20, 2019

अफगानिस्तानी हिंदुओं के पास दो विकल्प या इस्लाम कबूल करें या देश छोड़ दें

20 मई 2019
www.azaadbharat.org
🚩अखंड भारत एक विशाल देश था उसमें से कई छोटे-छोटे देश बनें, उनमें से एक देश अफगानिस्तान है जो पहले हिन्दू बाहुल देश था, लेकिन क्रूर लुटेरे मुगल अलप्तगीन के दामाद सुबुक्तगीन ने लड़ाईयां लड़ते हुए अफगानिस्तान पर 177 ई. में कब्जा कर लिया क्योंकि हिन्दू उस समय एक नहीं थे, जिसके कारण विदेशी मुगलों ने आसानी से कब्जा कर लिया । बाद में उन्होंने क्रूरता दिखाई तलवार की नोक पर हिंदुओं का धर्मान्तरण करवाया । धर्मान्तरण कराने के बाद हिन्दू अल्पसंख्यक हो गए जिससे आज उनकी वहाँ धार्मिक स्वतंत्रता पूरी तरह से छीन ली गई । वहां अब हिंदु तथा सिखों का जीना मुश्किल हो गया है झूठे मुकदमे बनाकर जेल भेज दिया जाता है, हत्याएं कर दी जाती हैं, बहु-बेटियों की इज्ज़त लूटी जाती है । यहाँ तक कि उनके अंतिम संस्कार के लिए श्मशान भी बन्द कर दिया जा रहा है ।

🚩कभी हिंदू और सिख अफगान समाज का समृद्ध तबका हुआ करता था । अब मुट्ठीभर ही बचे हैं । बढ़ती असहिष्णुता और शोषण का आरोप लगाकर ज्यादातर लोग अफगानिस्तान को छोड़कर चले गए हैं । अफगानिस्तान में कभी दो लाख 20 हजार हिंदू और सिख परिवार थे । अब 220 रह गए हैं । इस अल्पसंख्यक समुदाय की जान, धर्म, ईमान हर चीज पर हमला हो रहा है, लिहाजा अब वे भी भाग रहे हैं ।
🚩अफगानिस्तान में रह रहे एक सरदार जगतार सिंह की रोंगटे खड़े कर देने वाली सच्ची घटना में जगतार सिंह लाघमणी काबुल में अपनी दुकान पर काम कर रहे थे । एक युवक उनके पास आया छुरा दिखाकर बोला, मुसलमान हो जाओ, नहीं तो गला काट दूंगा । जून की शुरुआत में हुआ यह हमला पहला नहीं था । अफगानिस्तान के सिख और हिंदू अक्सर इस तरह के हमलों से दो-चार हो रहे हैं । तेजी से कट्टर इस्लामिक होते जा रहे अफगानिस्तान में इस तरह के हमले आम हो रहे हैं और अल्पसंख्यकों की मुश्किलें बढ़ रही हैं । तालिबान की धमकी मिली थी कि समुदाय को दो लाख अफगानी यानी करीब तीन हजार अमेरिकी डॉलर्स हर महीने देने होंगे.. ये उनके अनुसार जजिया कर था जो उनके जीने के लिए लगाया जाता था...।
🚩हिंदू और सिख सदियों से अफगानिस्तान में रह रहे हैं । वे वहां के व्यापार जगत का अहम हिस्सा रहे हैं । साहूकारी का काम यही तबका किया करता था, लेकिन आजकल उनकी पहचान जड़ी-बूटियों की दुकानों के लिए है ।
🚩नेशनल काउंसिल ऑफ हिंदू ऐंड सिख के चेयरमैन अवतार सिंह बताते हैं कि 1992 में काबुल में तख्तापलट के वक्त दो लाख 20 हजार परिवार थे जो अब घटकर सिर्फ 220 रह गए हैं । कभी ये पूरे मुल्क में फैले हुए थे, लेकिन अब बस नांगरहार, गजनी और काबुल के आसपास ही बचे हैं ।
🚩तालिबान ने अफगानिस्तान में शरिया लागू किया था । तब सार्वजनिक तौर पर लोगों को कत्ल किया जाता था । लड़कियों के स्कूल जाने पर पाबंदी थी । हिंदुओं और सिखों पर भी सख्ती थी । उन्हें पीले पट्टे पहनने पड़ते थे ताकि उन्हें पहचाना जा सके । यह नियम आज ही लगाया गया था अर्थात 20 मई सन 2001 को, इस से उनके घरों को लूटना, बलात्कार आदि का चिन्ह मिल जाया करता था । सरकार में बैठे ताकतवर लोगों ने सिखों व हिंदुओं की जमीनें छीन ली हैं । उन्हें लगातार धमकियां मिल रही हैं । छोटा समाज दिन ब दिन और छोटा होता जा रहा है ।” इस पीड़ा को झेलने वाले जगतार बताते हैं, “हमारा दिन ऐसे ही शुरू होता है । डर और अकेलेपन के साथ । अगर आप मुसलमान नहीं हैं, तो उनकी नजरों में आप इन्सान नहीं हैं । मुझे समझ नहीं आ रहा कि क्या करूं, कहां जाऊं ।”
🚩कालचा में जो कुछ हो रहा है, उससे इन अल्पसंख्यकों की स्थिति समझी जा सकती है । काबुल के साथ सटे कालचा इलाके में पहले ज्यादातर हिंदू और सिख ही रहते थे । उनके पास वहां एक श्मशान घाट है । हाल के दिनों में काबुल फैला है और बहुत से मुस्लिम परिवार कालचा में रहने आ गए हैं, लेकिन अब वे इस श्मशान घाट को लेकर विरोध कर रहे हैं । अब हालात ऐसे हो गए हैं कि अंतिम संस्कार के लिए पुलिस सुरक्षा की जरूरत पड़ती है । अवतार सिंह कहते हैं, “वे हम पर ईंटें और पत्थर फेंकते हैं । मुर्दों पर पत्थर फेंकते हैं।”
🚩आपको बता दे कि हिंदुओं की अफगानिस्तान से भी ज्यादा ख़राब स्थिति पाकिस्तान और बांग्लादेश में है, लेकिन इसके लिए न मानव अधिकार वाले बोलते हैं,  ना ही संयुक्त राष्ट्र कुछ कर रहे हैं और ना ही सरकार या कानून कोई कार्य कर रहा है ।
🚩देश-विदेश में जहां भी हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाते है तो उनको कैसे-कैसे प्रताड़ित किया जाता है आपके सामने ही है । भारत में भी ईसाई मिशनरियां जोरो से हिन्दूओं का धर्मान्तरण करवा रहे हैं, मुस्लिम भी लव जिहाद, जमीन जिहाद द्वारा, बच्चों की तादात बढ़ाकर कब्जा कर रहे हैं । मीडिया भी उनका ही साथ देती है और बॉलीवुड हो या टीवी शो ही सभी जगह हिन्दू विरोधी एजेंडे चल रहे हैं, हिन्दू देवी-देवताओं का मजाक उड़ाया जा रहा है, हिन्दू धर्मगुरुओं को बदनाम करके जेल भिजवाया जा रहा है  अभी भी हिन्दू न जागे तो वो दिन दूर नहीं कि हिन्दू अल्पसंख्यक हो जाएंगे और पाकिस्तान और अफगानिस्तान जैसी हालत होगी ।
🚩अब हिंदुओं को घोर निद्रा का त्याग करके इन षड्यंत्रों के खिलाफ लड़ना होगा तभी अस्तित्व हिन्दू बच पाएगा ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Sunday, May 19, 2019

नारदजी की कल्याणकारी पत्रकारिता (विविध)

19 may 2019
🚩पत्रकारिता की तीन प्रमुख भूमिकाएं हैं...
1)सूचना देना,
2)शिक्षित करना,
3)और मनोरंजन करना।
🚩महात्मा_गांधी ने हिन्द स्वराज में #पत्रकारिता की इन तीनों भूमिकाओं को और अधिक विस्तार दिया है ।
🚩लोगों की भावनाएं जानना और उन्हें जाहिर करना । लोगों में जरूरी भावनाएं पैदा करना । यदि लोगों में #दोष है तो किसी भी कीमत पर बेधड़क होकर उनको दिखाना।

🚩भारतीय परम्पराओं में भरोसा करने वाले विद्वान मानते हैं कि देवर्षि नारद की पत्रकारिता ऐसी ही थी। देवर्षि_नारद सम्पूर्ण और आदर्श पत्रकारिता के संवाहक थे। वे महज सूचनाएं देने का ही कार्य नहीं बल्कि सार्थक संवाद का सृजन करते थे।
🚩देवताओं, दानवों और मनुष्यों सबकी भावनाएं जानने का उपक्रम किया करते थे। जिन भावनाओं से लोकमंगल होता हो,ऐसी ही भावनाओं को जगजाहिर किया करते थे।
🚩इससे भी आगे बढ़कर देवर्षि नारद घोर उदासीन वातावरण में भी लोगों को सद्कार्य के लिए उत्प्रेरित करने वाली भावनाएं जागृत करने का अनूठा कार्य किया करते थे।
🚩दादा माखनलाल चतुर्वेदी के उपन्यास '#कृष्णार्जुन युद्ध' को पढ़ने पर ज्ञात होता है कि किसी निर्दोष के खिलाफ अन्याय हो रहा हो तो फिर वे अपने आराध्य भगवान विष्णु के अवतार श्रीकृष्ण और उनके प्रिय अर्जुन के बीच भी युद्ध की स्थिति निर्मित कराने से नहीं चूकते । उनके इस प्रयास से एक निर्दोष यक्ष के प्राण बच गए ।
🚩यानी पत्रकारिता के सबसे बड़े धर्म और साहसिक कार्य, किसी भी कीमत पर समाज को सच से रू-ब-रू कराने से वे पीछे नहीं हटते थे ।
🚩सच का साथ उन्होंने अपने आराध्य के विरुद्ध जाकर भी दिया। यही तो है सच्ची पत्रकारिता, निष्पक्ष पत्रकारिता ।
🚩किसी के दबाव या प्रभाव में न आकर अपनी बात कहना। मनोरंजन उद्योग ने भले ही फिल्मों और नाटकों के माध्यम से उन्हें विदूषक के रूप में स्थापित करने का प्रयास किया हो, लेकिन देवर्षि नारद के चरित्र का बारीकी से अध्ययन किया जाए तो ज्ञात होता है कि उनका प्रत्येक संवाद लोक कल्याण के लिए था। सिर्फ मूर्ख ही उन्हें कलहप्रिय कह सकते हैं ।
🚩नारद जी धर्माचरण की स्थापना के लिए ही सभी लोकों में विचरण करते थे । उनसे जुड़े सभी प्रसंगों के अंत में शांति, सत्य और धर्म की स्थापना का जिक्र आता है । स्वयं के सुख और आनंद के लिए वे सूचनाओं का आदान-प्रदान नहीं करते थे, बल्कि वे तो प्राणी-मात्र के आनंद का ध्यान रखते थे ।
🚩भारतीय परम्पराओं में भरोसा नहीं करने वाले 'बुद्धिजीवी' भले ही देवर्षि नारद को प्रथम पत्रकार, संवाददाता या संचारक न मानें, लेकिन पथ से भटक गई भारतीय पत्रकारिता के लिए आज नारद जी ही सही मायने में आदर्श हो सकते हैं ।
🚩भारतीय पत्रकारिता और पत्रकारों को अपने आदर्श के रूप में नारद जी को देखना चाहिए, उनसे मार्गदर्शन लेना चाहिए । मिशन से प्रोफेशन बनने पर पत्रकारिता को इतना नुकसान नहीं हुआ था जितना कॉरपोरेट कल्चर के आने से हुआ है ।
🚩पश्चिम की पत्रकारिता का असर भी भारतीय मीडिया पर चढ़ने के कारण समस्याएं आई हैं । स्वतंत्रता आंदोलन में जिस पत्रकारिता ने 'एक स्वतंत्रता सेनानी'की भूमिका निभाई थी, वह पत्रकारिता अब धन्ना सेठों के कारोबारों की चौकीदार बनकर रह गई है ।
🚩पत्रकार इन धन्ना सेठों के इशारे पर कलम घसीटने को मजबूर महज मजदूर हैं। संपादक प्रबंधक हो गए हैं । उनसे लेखनी छीनकर, लॉबिंग की जिम्मेदारी पकड़ा दी गई है ।
🚩आज कितने संपादक और प्रधान संपादक हैं जो नियमित लेखन कार्य कर रहे हैं...???
कितने संपादक हैं, जिनकी लेखनी की धमक है...???
🚩कितने संपादक हैं, जिन्हें समाज में मान्यता है..???
'जो हुक्म सरकारी, वही पकेगी तरकारी' की कहावत को पत्रकारों ने जीवन में उतार लिया है।
🚩मालिक जो हुक्म संपादकों को देता है, संपादक उसे अपनी टीम तक पहुंचा देता है। तयशुदा ढांचे में पत्रकार अपनी लेखनी चलाता है।
अब तो किसी भी खबर को छापने से पहले संपादक ही मालिक से पूछ लेते हैं- 'ये खबर छापने से आपके व्यावसायिक हित प्रभावित तो नहीं होंगे।'
🚩खबरें कम विज्ञापन अधिक हैं ।
'लक्षित समूहों' को ध्यान में रखकर खबरें लिखी और रची जा रही हैं। मोटी पगार की खातिर संपादक सत्ता ने मालिकों के आगे घुटने टेक दिए हैं। आम आदमी के लिए अखबारों और टीवी चैनल्स पर कहीं जगह नहीं है ।
🚩एक किसान की 'पॉलिटिकल आत्महत्या' होती है तो वह खबरों की सुर्खी बनती है। पहले पन्ने पर लगातार जगह पाती है। चैनल्स के प्राइम टाइम पर किसान की चर्चा होती है ।
लेकिन इससे पहले बरसों से आत्महत्या कर रहे किसानों की सुध कभी मीडिया ने नहीं ली। जबकि भारतीय पत्रकारिता की चिंता होनी चाहिए- अंतिम व्यक्ति ।
🚩आखिरी आदमी की आवाज दूर तक नहीं जाती, उसकी आवाज को बुलंद करना पत्रकारिता का धर्म होना चाहिए, जो है तो, लेकिन व्यवहार में ऐसा कहीं भी दिखता नहीं है।
पत्रकारिता के आसपास अविश्वसनीयता का धुंध गहराता जा रहा है। पत्रकारिता की इस स्थिति के लिए कॉरपोरेट कल्चर ही एकमात्र दोषी नहीं है। बल्कि पत्रकार बंधु भी कहीं न कहीं दोषी हैं।
🚩जिस उमंग के साथ वे पत्रकारिता में आए थे, उसे उन्होंने खो दिया।
'समाज के लिए कुछ अलग' और 'कुछ अच्छा' करने की इच्छा के साथ पत्रकारिता में आए युवा ने भी कॉरपोरेट कल्चर के साथ सामंजस्य बिठा लिया है।
🚩बहरहाल, भारतीय पत्रकारिता की स्थिति पूरी तरह खराब भी नहीं हैं । बहुत-से संपादक-पत्रकार आज भी उसूलों के पक्के हैं । उनकी पत्रकारिता खरी है। उनकी कलम बिकी नहीं है । उनकी कलम झुकी भी नहीं है ।
आज भी उनकी लेखनी आम आदमी के लिए है । लेकिन, यह भी कड़वा सच है कि ऐसे 'नारद पत्रकारों' की संख्या बेहद कम है। यह संख्या बढ़ सकती है ।
🚩क्योंकि सब अपनी इच्छा से बेईमान नहीं हैं । सबने अपनी मर्जी से अपनी कलम की धार को कुंद नहीं किया है । सबके मन में अब भी 'कुछ'करने का माद्दा है । वे आम आदमी,समाज और राष्ट्र के उत्थान के लिए लिखना चाहते हैं, लेकिन राह नहीं मिल रही है ।
🚩ऐसी स्थिति में देवर्षि नारद उनके आदर्श हो सकते हैं । आज की पत्रकारिता और पत्रकार नारद जी से सीख सकते हैं कि तमाम विपरीत परिस्थितियां होने के बाद भी कैसे प्रभावी ढंग से लोक कल्याण की बात कही जाए ।
🚩पत्रकारिता का एक #धर्म है-निष्पक्षता-
आपकी लेखनी तब ही प्रभावी हो सकती है जब आप निष्पक्ष होकर पत्रकारिता करें । पत्रकारिता में आप पक्ष नहीं बन सकते।
🚩हां, पक्ष बन सकते हो लेकिन केवल सत्य का पक्ष । भले ही नारद देवर्षि थे लेकिन वे देवताओं के पक्ष में नहीं थे। वे प्राणी मात्र की चिंता करते थे। देवताओं की तरफ से भी कभी अन्याय होता दिखता तो #राक्षसों को आगाह कर देते थे।
देवता होने के बाद भी नारद जी बड़ी चतुराई से देवताओं की अधार्मिक गतिविधियों पर कटाक्ष करते थे, उन्हें धर्म के रास्ते पर वापस लाने के लिए प्रयत्न करते थे।
🚩नारद घटनाओं का सूक्ष्म विश्लेषण करते हैं, प्रत्येक घटना को अलग-अलग दृष्टिकोण से देखते हैं,इसके बाद निष्कर्ष निकाल कर सत्य की स्थापना के लिए संवाद सृजन करते हैं।
🚩आज की पत्रकारिता में इसकी बहुत आवश्यकता है। जल्दबाजी में घटना का सम्पूर्ण विश्लेषण न करने के कारण गलत समाचार जनता में चला जाता है।
🚩बाद में या तो खण्डन प्रकाशित करना पड़ता है या फिर जबरन गलत बात को सत्य सिद्ध करने का प्रयास किया जाता है। आज के पत्रकारों को इस जल्दबाजी से ऊपर उठना होगा। कॉपी-पेस्ट कर्म से बचना होगा। जब तक घटना की सत्यता और सम्पूर्ण सत्य प्राप्त न हो जाए, तब तक समाचार बहुत सावधानी से बनाया जाना चाहिए।
🚩कहते हैं कि देवर्षि नारद एक जगह टिकते नहीं थे। वे सब लोकों में निरंतर भ्रमण पर रहते थे। आज के पत्रकारों में एक बड़ा दुर्गुण आ गया है, वे अपनी 'बीट' में लगातार संपर्क नहीं करते हैं। आज पत्रकार ऑफिस में बैठकर, फोन पर ही खबर प्राप्त कर लेता है। इस तरह की टेबल न्यूज अकसर पत्रकार की विश्वसनीयता पर प्रश्न चिह्न खड़ा करवा देती हैं।
🚩नारद जी की तरह पत्रकार के पांव में भी चक्कर होना चाहिए। सकारात्मक और सृजनात्मक पत्रकारिता के पुरोधा देवर्षि नारद को आज की मीडिया अपना आदर्श मान ले और उनसे प्रेरणा ले तो अनेक विपरीत परिस्थितियों के बाद भी श्रेष्ठ पत्रकारिता संभव है। आदि पत्रकार देवर्षि नारद ऐसी पत्रकारिता की राह दिखाते हैं, जिसमें समाज के सभी वर्गों का कल्याण निहित है।- लोकेन्द्र सिंह
🚩आज मीडिया की भूमिका अहम है, लेकिन मीडिया सिर्फ ब्लैकमेलिंग का धंधा बनकर रह गई है वो भी हिन्दू संस्कृति को तोड़ने के लिए । आज की मीडिया देश, सनातन संस्कृति तोड़ने के लिए लगी हुई है ।
🚩लेकिन मीडिया हाउस को ध्यान रखना चाहिए जो सनातन नहीं मिटा रावण की दुष्टता से, जो सनातन नही मिटा कंस की क्रूरता से वो सनातन क्या मिटेगा आज की बिकाऊ मीडिया से ।
🚩समय रहते मीडिया चेत जाये तो अच्छा हैं नहीं तो बोरिया बिस्तर बांध कर देश से रवाना होने को तैयार रहें क्योंकि देश की जनता में मीडिया ने अपनी विश्वसनीयता खो दिया है ।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ