Wednesday, February 1, 2017

क्या क़ानून देशविरोधी ताकतों के हाथों बिक चूका है

🚩कानून दोषी होने का सबूत न होने पर भी देता है सिर्फ तारीख पर तारीख!!
अंत में हो जाती है जमानत अर्जी खारिज!!

🚩कैंसर से पीड़ित साध्वी प्रज्ञा 8 साल से जेल में हैं । जिनको चलने-फिरने में भी मुश्किल हो रही है और उनको मालेगांव ब्लास्ट में NIA ने क्लीनचिट भी दे दी है।

🚩उसके बाद भी उनको बेल नही मिलती है। मिलती है तो केवल तारीख!!

🚩क्लीनचिट मिलने के बाद नवंबर 2015  विशेष एनआईए न्यायालय में साध्वी जी ने अपनी जमानत याचिका रखी थी उसमें उनको तारीख पर तारीख मिलने के बाद 6 जून 2016 को जमानत खारिज कर दी जाती है ।
क्या क़ानून देशविरोधी ताकतों के हाथों बिक चूका है 

🚩उसके बाद उन्होंने मुम्बई हाईकोर्ट में बेल की अर्जी डाली । उसमें भी उनको मिली केवल तारीख ।
31 जनवरी 2017 को उनकी बेल की सुनवाई थी उसमें अब अगली तारीख मिली है 7 फरवरी !!

🚩जैसा कि पहले भी बताया गया है कि साध्वी प्रज्ञा सहित 8 आरोपियों के संघ के पूर्व प्रचारक सुनील जोशी की 9 दिसम्बर 2007 को हत्या हुई थी । उस मामले में 1 फरवरी 2017 को देवास में एडीजे राजीव एम आप्टे ने साध्वी को सभी धाराओं से बरी कर दिया ।

🚩साध्वी जी को षड्यंत्र के तहत फंसाने के कई पुख्ता सबूत मिले हैं लेकिन फिर भी उनको एक साधारण जमानत तक नही मिल पा रही है बड़ा आश्चर्य है !!

🚩ऐसे ही दूसरा मामला सामने आया है बापू आसारामजी का । जो जोधपुर जेल में 40 महीनों से बंद हैं । उनके ऊपर दो केस चल रहे हैं एक तो शाहजापुर (उत्तरप्रदेश) की बालिग लड़की ने छेड़छाड़ का आरोप लगाया है और दूसरी सूरत की लड़की ने अहमदाबाद में 12 साल पुराना बलात्कार का आरोप लगाया है ।

🚩जोधपुर केस में बापू आसारामजी को भी मेडिकल में क्लीनचिट मिल चुकी है और अहमदाबाद केस में लड़की केस वापिस लेना चाहती है ।

🚩उसने बताया कि मुझे कई लोगों ने प्रेशर किया था बापू आसारामजी के खिलाफ केस करने के लिए पर अब मैं केस वापिस लेना चाहती है पर सरकार उसे केस वापिस नहीं लेने दे रही !!

🚩डॉ.सुब्रमणयम स्वामी ने भी केस पढ़ कर कहा कि ये पूरा केस ही फर्जी है।
 और अब तो कोर्ट में वो कॉल डिटेल भी सम्मिट हो चुकी है जिसके द्वारा पता चल रहा है कि जिस समय की घटना #लड़की बता रही है उस समय तो वो अपने फ्रेंड से फोन पर बात कर रही थी और बापू आसारामजी भी किसी कार्यक्रम में व्यस्त थे ।

🚩एक #बेबुनियाद केस के आधार पर साढ़े तीन साल से सजा काट रहे हैं निर्दोष संत आसाराम जी बापू !!


🚩बापू आसारामजी को #फंसाने के कई अहम सबूत मिले हैं । उनकी भी कई बार जमानत कोर्ट में रखी गई पर हर बार तारीख पर तारीख मिलने के बाद #खारिज कर दी जाती है ।

🚩जेल में बापू आसारामजी का स्वास्थ्य इतना बिगड़ गया था कि चलना, फिरना मुश्किल था तो सेशन कोर्ट और #हाईकोर्ट में तारीख पर तारीख मिलने के महीनों बाद खारिज होने पर सुप्रीम कोर्ट में कई महीनों पहले बेल एप्लिकेशन डाली गई थी बाद में सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली एम्स में #चेकअप का बोला उसके बाद सुनवाई करते हुए भी कई महिनों से तारीख पर तारीख मिल रही थी ।

🚩अभी 30 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मेडिकल का एक पेपर गलत है और उनको इतनी कोई #बीमारी नही है कि बेल दी जाये इसलिए बेल खारिज कर दी गई।

🚩जबकि सच्चाई यह है कि एक पेपर जेल प्रशासन द्वारा मिला था । जो ओरिजिनल की जगह जेरोक्स था इसको लेकर कोर्ट ने कहा कि ये गलत #पेपर है उस पर #मीडिया दिन-रात डिबेट चला रही है कि बापू आसारामजी ने फर्जी पेपर लगाकर जमानत मांगी थी ।

🚩कोर्ट बोलता है कि इतनी #भयंकर #बीमारियाँ नही हैं पर #मेडिकल में 12 बीमारियाँ इतनी भयंकर आई है जिससे आप नीचे दी गई वीडियो लिंक द्वारा देख सकते हैं ।


🚩यहाँ तक कि उनकी #जमानत के लिए डॉ. #सुब्रमण्यम स्वामी भी कई बार कोर्ट में बहस कर चुके है लेकिन उनको भी कोई सफलता नही मिल पाई ।

🚩ऐसा लगता है कि बापू आसारामजी का मामला तो केवल #मीडिया #ट्रायल से ही चल रहा है । कोर्ट के ऊपर #देशविरोधी ताकतों का भारी दबाव है ।

🚩आज बड़े-बड़े #अपराधियों को अपराध सिद्ध होने के बाद भी तुरन्त #जमानत मिल जाती है लेकिन साध्वी प्रज्ञा और बापू आसारामजी के ऊपर विदेशी #ताकतों का इतना दबाव है कि भयंकर बीमार अवस्था में भी सामान्य जमानत तक नही मिल पा रही है और ऊपर से मीडिया उनको दिन-रात गलत ठहराने में लगी है ।

🚩 #जोशी #हत्या कांड में #साध्वी जी को बरी कर दिया और एन आई ए ने #क्लीनचिट भी दे दी और बापू #आसारामजी को भी क्लीनचिट मिल चुकी है ।।


🚩अब प्रश्न यह उठता है कि #निर्दोष साध्वी जी और बापू आसारामजी जब रिहा होंगे तब उनके बिगड़े स्वास्थ्य व दीर्घकालीन कारागार के अपयश की भरपाई कौन करेगा ???

🚩क्या ये हिन्दू #संतों को बदनाम करने की सोची समझी साजिश नही..??

No comments:

Post a Comment

'पाकिस्तान' की नींव बंगाल में ही पड़ी थी

जुलाई 21, 2017 16 अगस्त, 1946 यानी भारत की स्वतंत्रता से ठीक एक साल पहले कलकत्ता में पहला दंगा भड़का और बंगाल के गांवों तक फैल गया।  द...