Saturday, April 29, 2017

राक्षसों और विधर्मियों के लिए भगवा बहुत बड़ा हथियार है : साध्वी प्रज्ञा

राक्षसों और विधर्मियों के लिए भगवा बहुत बड़ा हथियार है : साध्वी प्रज्ञा

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर जमानत मिलने पर बाहर आ गई है और जिन्होंने हिन्दुओं को खत्म करने के लिए एक प्लान बनाया था जिसमें सबसे पहले हिन्दू साधु-संतों एवं हिन्दू नेताओं को फँसाकर खत्म करने की रणनीति बनाई थी जिसका नाम दिया था "भगवा आतंकवाद" इसकी सच्चाई साध्वी जी ने प्रेस #कॉन्फ्रेंस करके मीडिया के सामने बताई ।
#SadhviPragya

साध्वी प्रज्ञा ने मीडिया को संबोधित किया और कांग्रेस के #षड्यंत्र को उजागर किया | उन्होंने कहा कि मैं पूरी तरह से निर्दोष थी और कांग्रेस ने साजिश के तहत मुझे फँसाया था | उन्होंने मुझे 9 साल तक जेल में रखकर बहुत प्रताड़ित किया | मुझे इतना मारा कि मेरे फेफड़े की झिल्ली फट गयी और मुझे कैंसर हो गया ।

साध्वी ने #मुंबई के कई पुलिस अधिकारियों का नाम लेते हुए बताया कि इन्होंने मुझे इतना प्रताड़ित किया जितना आजाद भारत से पहले और #आजाद भारत के बाद किसी भी स्त्री को प्रताड़ित नहीं किया गया होगा । उन्होंने कहा कि मुझे प्रताड़ित करने वालों में हेमंत करकरे, परमवीर सिंह भी थे | परमवीर सिंह इस वक्त थाणे के पुलिस #कमिश्नर हैं जबकि हेमंत करकरे मुंबई 26/11 हमले में मारा गया था ।

साध्वी ने कहा कि #कांग्रेस मुझे प्रताड़ित करवाकर मारना चाहती थी ताकि वे लोग भगवा #आतंकवाद की #परिभाषा गढ़ सकें, लेकिन इनकी ये कोशिश कामयाब नहीं हो पाई | इन लोगों ने मुझे मार-मारकर बीमार जरूर बना दिया लेकिन ये लोग मेरी #आत्मा, मेरे विश्वास को नहीं तोड़ पाए और आज मैं आप लोगों के सामने हाजिर हूँ ।

जब उनसे भगवा #आतंकवाद के बारे में पूछा गया तो साध्वी ने कहा कि कांग्रेस के तात्कालीन गृहमंत्री पी. चिदंबरम ने भगवा आतंकवाद की परिभाषा गढ़ी थी और मुझे फंसाने की साजिश की थी लेकिन कोर्ट में इतना तो साबित हो गया कि कोई भगवा आतंकवाद नहीं होता | उन्होंने पी. चिदम्बरम को विधर्मी और राक्षस बताते हुए कहा कि जो राक्षस और विधर्मी होते हैं वे भगवा से बहुत डरते हैं | इसलिए उनके लिए तो भगवा आतंकवादी ही होगा ना और उन्हें डरना भी चाहिए क्योंकि #राक्षसों के लिए ये भगवा बहुत बड़ा हथियार है।

उन्होंने कहा कि 9 साल तक मुझे लगातार प्रताड़ित किया | इससे ये तो निश्चित हो गया कि यह कांग्रेस का #षड्यंत्र था, पर मुझे भरोसा है कि अब मेरे साथ न्याय होगा ।

साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि पहले मैं पूरी तरह से ठीक थी और फिजिकली ट्रेंड भी थी लेकिन आज मैं बीमार हूँ, मुझे #कैंसर है, तो इसका कारण है ATS, #मुंबई | इन्होंने मुझे 9 दिन तक गैरकानूनी तरीके से बंधक बनाकर इतना प्रताड़ित किया था, मुझे इतना मारा था कि मेरे फेफड़ों की झिल्ली फट गयी और मुझे कैंसर हो गया, उस वक्त पांच दिन तक मैं वेंटीलेटर पर थी | उस वक्त उन्होंने मुझे #शारीरिक और मानसिक रूप से पूरी तरह तोड़ दिया | लेकिन आत्मिक तौर पर वे मेरा कुछ नहीं बिगाड़ पाए | मैं सिर्फ अपने आत्मबल से आप लोगों के सामने हूँ | वरना कांग्रेसियों ने मुझे ख़त्म करने का पूरा प्रयास किया था ।

आपको बता दें कि जॉइंट #इंटेलीजेंसी कमेटी के पूर्व प्रमुख और पूर्व उपराष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार डॉ. एस.डी. प्रधान ने देश में भगवा आतंक की थ्योरी को लेकर कई सनसनीखेज खुलासे किए हैं। 

उन्होंने भी स्पष्ट बताया है कि समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट, मालेगाँव ब्लास्ट, #इशरतजहाँ मामला का पहले से ही हमें पता था और अमेरिकन खुफिया विभाग ने भी बताया था कि ये सब घटनाएं होने वाली थी और ये पाकिस्तान करवा रहा है और हमने तात्कालीन #गृहमंत्री पी.चिदंबरम को बताया भी था लेकिन उन्होंने राजनैतिक फायदे के लिए भगवा #आतंकवाद सिद्ध करने के लिए #डी.जी.वंजारा, साध्वी प्रज्ञा, स्वामी #असीमानन्द, #शंकराचार्य अमृतानन्दजी, कर्नल पुरोहित और बाद में संत आसारामजी बापू और उनके बेटे को जेल भेजा गया था ।

आपको बता दें कि साध्वी की शुरुआत बेहद डरावनी थी ।  पहले उसे 10 पुलिसवालों ने घेरकर मारना शुरू किया, कोई #घूंसे से, कोई बेल्ट से, कोई बूट से ... फ़िर एक पुलिसवाला उस साध्वी के गले में रुद्राक्ष की माला देखता है जिस पर #सूर्यदेव का प्रतीक लगा होता है, गले पर हाथ रखकर वो रुराक्ष की माला को तोड़ देता है और बोलता है कि बुला अपने शिव या सूर्य को उनकी भी ऐसी की तैसी कर दूगा मैं ।

फ़िर दूसरा पुलिसवाला उस साध्वी के झोले को जमीन पर पटक देता है, उस झोले से श्रीमद #भगवतगीता की पवित्र पुस्तक निकलकर बाहर आती है । वो पुलिसवाला उस साध्वी के बाल पकड़कर कहता है कि इसी मनहूस किताब ने दुनिया और तेरे अंदर भगवा का जहर घोल रखा है | फिर वही #पुलिसवाला गीता के एक-एक पन्ने को फाड़कर राक्षसों की तरह हंसकर कहता है कि- बुला द्रौपदी ! बुला अपने कृष्ण को । उस #साध्वी की रीढ की हड्डी टूटी, फेफ़डे की झिल्ली फटी… गीता फाड़ने,
रुद्राक्ष तोड़ने, बूट चलानेवाले आज भी इसी संसार में हैं, पूरी तरह सुखी और संपन्न हैं। आजादी के बाद सबसे #भीषण प्रताड़ना झेलने वाली नारी साध्वी #प्रज्ञा का बुरहान की गोली और याकूब की फांसी की चिंता करनेवालों को कभी हजारों चीखों में से एक आह भी नहीं सुनाई दी, 

कितना बड़ा आश्चर्य का विषय है !!

आपको बता दें कि जो भी हिन्दू साधु #संत या कायकर्ता #ईसाई #धर्मान्तरण पर रोक लगाते थे उनको वेटिकन सिटी के संकेत पर सोनिया गांधी ने सभी निर्दोष #हिन्दू #सन्तों को अपना निशाना बनाया था । 

ये सभी संत हिन्दू संस्कृति का परचम लहराने वाले और #धर्मान्तरण के विरोधी रहे हैं ।

जागो हिन्दू !!

Official Azaad Bharat Links:👇🏻

🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk

🔺Facebook : http://aww.su/Whsem 

🔺 Twitter : https://goo.gl/he8Dib

🔺 Instagram : https://goo.gl/PWhd2m

🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX

🔺Blogger : https://goo.gl/N4iSfr

🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG

🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

   🚩🇮🇳🚩 आज़ाद भारत🚩🇮🇳🚩

No comments:

Post a Comment

अमेरिका में दुनिया की टॉप हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में अब पढ़ाई जायेगी रामायण और गीता

सितम्बर, 24, 2017 भारत देश ऋषि-मुनियों का देश रहा है, जब दुनिया पढ़ना-लिखना नही जानती थी तब भारत ने वेद लिख दिए थे, जब बाकी दुनिया मे...