Monday, November 13, 2017

वेटिकन में सबसे बड़े कैथोलिक चर्च में लाखों बच्चों के साथ मिला अश्लीलता का वीडियो

अक्टूबर 13, 2017   www.azaadbharat.org
🚩वेटिकन सिटी के फंडिग की लालच में मीडिया भले हिन्दू धर्म के देवी-देवताओं, पर्व-त्यौहारों, साधु-संतों, मंदिर-आश्रमों को बदनाम करें लेकिन आश्चर्य में डाल देगी आपको वेटिकन सिटी की खुद की सच्चाई !!
🚩वेबसाइट nnettle.com में चर्च के बारे में जो छपा है वो हैरान करने वाला है कि कैसे धर्म के नाम पर ईसाई पादरी बच्चों के साथ दुष्कर्म जैसे घिनौने कृत्य करते हैं ।
🚩वेटिकन में सबसे बड़ा कैथोलिक चर्च पीडोफाइल है।
🚩जहाँ कैथोलिक चर्च लिपिक पीडोफिलिया के अपने निरंतर प्रदर्शन को रोकने के लिए लड़ाई कर रहा है, वहीं दूसरी ओर जासूसों ने वेटिकन के भीतर की गई फोटो, वीडियो और अन्य स्पष्ट सामग्री सहित बाल अश्लील साहित्य की एक "अभूतपूर्व" मात्रा का पर्दाफाश किया है।

unprecedented-amount-of-child-porn-discovered-in-the-Vatican

🚩वेटिकन प्रमोटर ऑफ जस्टिस, जियान पिएरो मिलानो ने इन आरोपों के जवाब में एक रिपोर्ट जारी की जो उन्होंने न्यायिक समारोह के दौरान कैथोलिक चर्च के अधिकारियों के समक्ष पूरी पढ़ी ।
🚩मिलानो का दावा है कि कैथोलिक चर्च की आंतरिक जांच प्रोटोकॉल के कारण, वह वास्तव में पीडोफिलिया और बाल अश्लीलता रखने के अभियुक्त लोगों के नाम बताने का उनका कोई कानूनी दायित्व नहीं है।
🚩हालांकि, होली सी के प्रवक्ता फेडेरिको लोम्बार्डी ने खुलेपन का एक दुर्लभ प्रदर्शन दिखाया और आर्कबिशप जोसेफ वेसोलोव्स्की का नाम आरोपी में से एक के रूप में दर्ज किया, जिनसे जांच शुरू हुई थी।
🚩यद्यपि यह वेटिकन द्वारा एक आगामी संकेत की तरह लग सकता है,  लेकिन 2014 में पहले ही खबरों का खुलासा हुआ था जिसमें न केवल वेसोलोव्स्की ( Wesolowski ) के कब्जे में 100,000 से अधिक ऐसे छवियों और वीडियो का मिलना जिसमे बच्चों को यौन क्रिया करने में मजबूर किया जा रहा है, परन्तु वेसोलोव्स्की द्वारा पोलैंड और डोमिनिकन गणराज्य में कई बच्चों को यौन शोषण करना भी शामिल था ।
🚩वेटिकन की आंतरिक नीतियों के कारण, वेसोलोव्स्की की जांच हुई थी। लेकिन "अपनी सुरक्षा" के लिए जेल जाने से बच गया।
🚩चर्च द्वारा उठाए गए  असामान्य कदम में,  इस उच्च श्रेणी के कैथोलिक आधिकारियों के अपराधों के लिए वेटिकन के अभियोजन से मुकदमा चलाया गया था  और उसे "सुरक्षात्मक" घर गिरफ्तारी के तहत रखा गया था, लेकिन इससे पहले कि मामला भी "कोर्टरूम" तक पहुंचता, उससे पहले वो रहस्यमय तरीके से मर गया।
🚩उनकी मृत्यु के बाद न्याय की कमी ने कई पीड़ितों को सुझावों से निराश कर दिया कि घर गिरफ्तारी के लिए एकमात्र कारण यह तथ्य, खबर का खुलासा था कि, डोमिनिकन गणराज्य में मुकदमा चलाने से बचने के लिए वेटिकन अधिकारियों द्वारा वेसोलोव्स्की को चुपचाप से वापस कैथोलिक शहर-राज्य तक ले जाया गया था, उसे बाद में मुफ्त में घूमने की इजाजत थी।
🚩चर्च और राज्य के अनुसार, वास्तव में वेसोलॉव्स्की के कंप्यूटर पर जो कुछ पाया गया था, उसका वर्णन घृणास्पद था:
🚩कैमरे के सामने हस्तमैथुन करने और एक दूसरे से सेक्स करने के लिए मजबूर किये गए किशोरों के 160 से अधिक वीडियो थे।
🚩इसके अलावा, किशोरों पे बलात्कार किया था और तो और उन्हें वयस्कों के साथ यौन कृत्य करने के लिए मजबूर किया था।
🚩वेसोलोव्स्की अपने बाल अश्लीलता संग्रह के बारे में सुरक्षात्मक था, 86000 से अधिक छवियों उनके द्वारा अवरोधित फ़ोल्डर में वर्गीकृत और दर्ज किया गया था।
🚩कंप्यूटर पर मौजूद छवियों और वीडियो के अलावा, कम से कम 45,000 अन्य पहले से ही हटाए जा चुके थे।
🚩यह अच्छा आर्चबिशप ये सुनिश्चित करना चाहता था कि प्रवास के दौरान को बाल अश्लीलता से वंछित नहीं रहे, इसलिए वो एक लैपटॉप साथ में रखता था जिसमें और भी ज्यादा अश्लील फोटो और वीडियो थे।
🚩यह काफी ठेठ लगता है कि इस नए बाल पोर्न डिस्कवरी केस में केवल आरोपी पार्टी का नाम रखा गया है, जो पहले से ही उजागर किया गया है और उसका निधन हो गया है, अन्य आरोपियों की पहचान गोपनीय रखी है।
🚩गार्डियन के मुताबिक, बाल अश्लीलता के मामलों से परे, वेटिकन अधिकारी मादक पदार्थों की तस्करी और मनी लॉन्ड्रिंग सहित कई अपराधों से जूझ रहे हैं।
🚩वेटिकन को संबोधित नशीली दवाओं की तीन डाक-वितरण को 2014 में रोक दिया गया था जिसमें कोकेन से भरे कंडोम युक्त पैकेट भी शामिल थे ।
🚩जर्मनी की लीपज़िग हवाई अड्डे पर ड्रग्स की खोज की गई और खरीदार को फंसाने की आशा में वेटिकन को सौंप दिया गया, लेकिन कोई भी सामान पर दावा करने के लिए आगे नहीं आया।
🚩आपराधिक गतिविधियों की सरणी के बावजूद, हाल के वर्षों में वेटिकन के जेल में केवल छह लोग ही पहुंचे ।
🚩इनमें सेंट पीटर की बेसिलिका के ऊपर चढ़ने वाले एक इतालियन प्रदर्शनकार मार्सेलो डी फिनिज़ियो, और एक फ़ेमेन कार्यकर्ता इयाना अज़जानोवा शामिल हैं, जिन्होंने अपने स्तनों का प्रदर्शन करते हुए वेटिकन के जन्म के दृश्य से एक बाल यीशु की प्रतिमा को पकड़ लिया।
🚩जो #ईसाई #पादरी खुद #दुष्कर्म में लिप्त है वो ही भारत में आकर अपना धर्म महान बताकर लालच देकर हिन्दुओं का #धर्मपरिवर्तन #करवाते हैं और #मीडिया भी ईसाई #पादरियों का #दुष्कर्म #नहीं #बताती है और न ही उनके चर्च के में हो रहे योन शोषण के बारे में बताती है, सिर्फ पवित्र हिन्दू #साधु-संतों को ही #बदनाम करती है, #वेटिकन सिटी के इशारे पर ।
🚩पाठक खुद विचार करें कि आखिर क्यों सिर्फ और सिर्फ मीडिया में हिन्दू साधु-संतों की छवि ही धूमिल की जाती है । अभी हाल ही में कर्नाटक की मैसूर #न्यायालय ने #स्वामी नित्यानंद के खिलाफ #झूठी #गवाही देनेवाले #विनय भारद्वाज पर #2.75 करोड़ रुपए का #जुर्माना लगाया है ।
🚩पर जितना मीडिया ने उनको बदनाम किया क्या उसका चौथा हिस्सा भी इस न्यूज को हाईलाइट किया गया ?
🚩आखिर कबतक शिकार होंगे भारतवासी ऐसी बिकाऊ मीडिया के ???
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

No comments:

Post a Comment