Sunday, March 12, 2017

लोगों ने वैदिक होली के लिए भारी उत्साह सोशल मीडिया छाया

ट्वीटर पर टॉप में चला ट्रेंड, 
यूजर का कहना वैदिक होली ही खेलें...

होली का त्यौहार भारत के साथ कई अन्य देशों में भी धूम-धाम के साथ मनाया जाता है। #होली की लोकप्रियता का विकसित होता हुआ अंतर्राष्ट्रीय रूप भी आकार लेने लगा है। 

होली रंगों का त्यौहार है, हँसी-खुशी का #त्यौहार है, लेकिन होली के भी अनेक रूप देखने को मिलते हैं । प्राकृतिक रंगों के स्थान पर रासायनिक रंगों का प्रचलन, ठंडाई की जगह नशेबाजी और लोक संगीत की जगह फिल्मी गानों का प्रच इस आलनधुनिक रूप से होली खेलना बहुत नुकसान करता है ।
AzaadBharat - #HappyVedicHoli

होली पर बजाए जाने वाले ढोल, मंजीरें, फाग, धमार, चैती, ठुमरी आदि #वैदिक गानों से ही करनी चाहिए ।

रासायनिक रंगों के कुप्रभावों की जानकारी होने के बाद बहुत से लोग स्वयं ही #प्राकृतिक रंगों की ओर लौट रहे हैं। चंदन, गुलाबजल, टेसू (पलाश) के फूलों से बना हुआ रंग तथा प्राकृतिक रंगों से होली खेलने की परंपरा को बनाए हुए हैं ।

आज #HappyVedicHoli हैशटैग टॉप में ट्रेंड कर रहा था उसमें यूजर क्या ट्वीट कर रहे थे आईये जाने..

1- कृष्णा ने लिखा है कि केमिकल रंगों से होली खेलने से अनेक हानियाँ होती है ! अपनाये #पलाश के #रंगो द्वारा खेली जाने वाली सनातन #HappyVedicHoli

2 - सुयश ने लिखा कि इन दिनों में पलाश/केसुडे/गेंदे के फूलों के रंग से #होली खेलने से शरीर के 7 धातु संतुलन में रहते हैं ।

3 - जेनी ने लिखा कि पावन पर्व पर जहरीले रासायनिक रंगों से अपने स्वास्थ्य पर कुठाराघात न करें, बल्कि #प्राकृतिक रंगों से होली खेलें ।

4- प्रवीण ने लिखा कि जब कोमल त्वचा पर रासायनिक रंग लगाये जायेगें तो कैन्सर आदि का खतरा बढेगा। #इसलिए प्राकृतिक रंगों से होली खेलनी चाहिए ।

5 - गार्गी ने लिखा कि #संत #आसारामजी #बापू ने कहा है कि केमिकल रंगों से अपने शरीर को बचाएं और प्राकृतिक पलाश के रंगों को अपनाएँ। https://twitter.com/gargi088/status/840781714943180800

6 - मोतीराम ने लिखा कि #भारत के लोगों का अनुकरण विश्व करे, ऐसा परम्परागत त्यौहार है #वैदिक होली।

इस तरीके से हजारों यूजर बोल रहे थे कि हमको #आसारामजी #बापू ने बताया है कि केमिकल रंगों से घातक बीमारियाँ होती है और #पलाश आदि प्राकृतिक रूप से होली खलने से निरोगता, शांति बढ़ती है ।

#स्वास्थ्यप्रदायक #होली
रासायनिक रंगों का तन-मन पर बड़ा दुष्प्रभाव होता है । काले रंग में लेड ऑक्साइड पड़ता है, वह किडनी को खराब करता है । लाल रंग में कॉपर सल्फेट पड़ता है, वह कैंसर की बीमारी देता है । बैंगनी रंग से दमा और एलर्जी की बीमारी होती है । सभी रासायनिक रंगों में कोई-न-कोई खतरनाक बीमारी को जन्म देने का दुष्प्रभाव है । 

लेकिन पलाश की अपनी एक #सात्त्विकता है । #पलाश के फूलों का रंग रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ाता है । #गर्मी को पचाने की, सप्तरंगों व सप्तधातुओं को संतुलित करने की क्षमता पलाश में है । पलाश के फूलों से जो होली खेली जाती है, उसमें पानी की बचत भी होती है । रासायनिक रंगों को मिटाने के लिए कई बाल्टियाँ पानी लगता है । सूखा रंग, काला रंग या सिल्वर रंग लगायें तो उसको हटाने के लिए साबुन और पानी बहुत लगता है लेकिन पलाश के फूलों के रंग के लिए न कई बाल्टियाँ पानी लगता है न कई गिलास पानी लगता है । और #पलाश वृक्ष की गुणवत्ता सर्वोपरि है । पित्त और वायु मिलकर हृदयाघात (हार्ट-अटैक) का कारण बनता है लेकिन जिस पर पलाश के फूलों का रंग छिड़क देते हैं उसका पित्त शांत हो जाता है तो हार्ट-अटैक कहाँ से आयेगा ? वायुसंबंधी 80 प्रकार की बीमारियों को भगाने की शक्ति इस पलाश के रंग में है ।

रासायनिक रंगो के नुकसान और प्राकृतिक रंग कैसे बनाये लिंक पर क्लिक करके देखे

होली पर नाचना, कूदना-फाँदना चाहिए जिससे जमे हुए कफ की छोटी-मोटी गाँठें भी पिघल जायें और वे ट्यूमर कैंसर का रूप न ले और कोई दिमाग या कमर का ट्यूमर भी न हो । तुम्हारे शरीर में जो कुछ अस्त-व्यस्तता है, वह गर्मी से तथा नाचने, कूदने-फाँदने से ठीक हो जाती है । 

पलाश के फूलों का रंग एक-दूसरे पर छिड़क के अपने चित्त को आनंदित व उल्लसित करना । 

#धुलेंडी के दिन पहले से ही शरीर पर नारियल या सरसों का तेल अच्छी प्रकार लगा लेना चाहिए, जिससे यदि कोई त्वचा पर रासायनिक रंग डाले तो उसका दुष्प्रभाव न पड़े और वह आसानी से छूट जाय। (स्त्रोत : ऋषि प्रसाद )

No comments:

Post a Comment

1962 के बाद चीन भारत से 3 बार और युद्ध लड़ चुका है

23 जुलाई 2017 Add caption #1962 की लड़ाई #चीन द्वारा विश्वासघात के रूप में भारत को प्राप्त हुई, लेकिन चीन को 1962 के आगे के इत...