Sunday, March 5, 2017

रिपोर्ट : इस्‍लाम होगा सबसे बड़ा धर्म, भारत में होंगे सबसे ज्‍यादा मुसलमान

रिपोर्ट : इस्‍लाम होगा सबसे बड़ा धर्म, भारत में होंगे सबसे ज्‍यादा मुसलमान

5 मार्च 2017

अभी दुनिया में सर्वाधिक आबादी ईसाइयों की है लेकिन हाल ही में अमेरिकी थिंक टैंक प्यू रिसर्च सेंटर द्वारा किये गए अध्ययन अनुसार इस सदी के अंत तक दुनिया में सबसे अधिक आबादी मुसलमानों की हो जाएगी।  

प्यू रिसर्च सेंटर की रिपोर्ट के अनुसार मुसलमानों की आबादी बढ़ने के पीछे दो प्रमुख कारण हैं। पहला, मुसलमानों की जनसंख्या वृद्धि दर बाकि धर्मों से ज्यादा है। वैश्विक स्तर पर मुस्लिम महिला के औसतन 3.1 बच्चे होते हैं जबकि बाकि धर्मों का ये औसत 2.3 है।

मुसलमानों की जनसंख्या ज्यादा बढ़ने का दूसरा कारण है उनकी युवा आबादी। साल 2010 में मुसलमानों की औसत आयु 23 साल थी। जबकि उसी साल गैर-मुसलमानों की औसत आबादी 30 साल थी। युवा आबादी होने का मतलब है मुसलमानों की बढ़ती आबादी या तो बच्चे पैदा कर रहे है या भविष्य में करेंगे। सबसे ज्यादा प्रजनन दर और सबसे ज्यादा युवा आबादी के कारण मुसलमानों की आबादी तेजी से बढ़ सकती है।
by-2050-muslim-will-be-biggest-religious-group-by-the-end-of-the-century-india-will-have-maximum-number-of-muslim-population

प्यू रिसर्च सेंटर के अनुसार अगर इस्लाम इसी रफ्तार से बढ़ता रहा तो इक्कीसवीं सदी के अंत तक वो ईसाई धर्म को पीछे छोड़ देगा। इस समय इंडोनेशिया दुनिया की सबसे बड़ी मुस्लिम आबादी वाला देश है। लेकिन 2050 तक भारत दुनिया की सबसे बड़ी मुस्लिम आबादी (करीब 30 करोड़) वाला देश बन जाएगा।

अभी भी हिन्दू नही जगे तो होगी पाकिस्तान और बांग्लादेश जैसी बुरी हालत !!

ग्लोबल स्लेवरी इंडेक्स 2016 की रिपोर्ट कहती है कि 20 लाख से ज्यादा पाकिस्तानी हिन्दू गुलामों की जिंदगी बसर कर रहे हैं ।

रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान में हर साल 1000 हिंदू और ईसाई लड़कियों (ज्यादातर नाबालिग) को मुसलमान बनाकर शादी करा दी जाती है।

पाकिस्तान में सूदखोर मजबूर हिंदुओं की जवान लड़कियाँ उठाकर ले जाते हैं।

पाकिस्तान में एक संगठन से जुड़े गुलाम हैदर कहते हैं कि सूदखोर हिंदुओं की खूबसूरत लड़कियों को चुनते हैं। हैदर कहते हैं कि इसका शिकार होने वाले गरीब परिवार होते हैं। यहां तक ना मीडिया के कैमरे पहुंचते हैं और ना पुलिस स्टेशन में इनकी कोई सुनवाई होती है।

पाक में नरसंहार का सामना कर रहे हैं अल्पसंख्यक !!

पाकिस्तान के एक प्रसिद्ध विद्वान ने कहा है कि पाकिस्तान ‘एक धीमे नरसंहार’ का सामना कर रहा है और यह इस्लामी देश में धार्मिक अल्पसंख्यकों को ‘सबसे खतरनाक’ तरीके से खत्म करना चाहता है।

पाकिस्तानी लेखिका, पत्रकार एवं नेता फरहनाज इस्पहानी ने कहा, ‘भारत एवं पाकिस्तान के बंटवारे से ठीक पहले इस्लाम के अलावा हमारे यहां हिन्दू, सिख, ईसाई, पारसी इन धर्मियों का बहुत अच्छा संतुलन था। अब पाकिस्तान में उनकी तादाद पूरी जनसंख्या के 23 प्रतिशत यानि एक तिहाई से गिरकर महज तीन प्रतिशत रह गयी है !’ उन्होंने कहा, ‘मैं इसे ‘धीमा नरसंहार’ कहती हूं क्योंकि यह धार्मिक समुदायों का सबसे खतरनाक तरह से खात्मा है !’ 

उन्होंने कहा, ‘यह नरसंहार एक दिन में नहीं होता। यह कुछ महीनों में नहीं होता। धीरे धीरे होता है जब कानून एवं संस्थान और नौकरशाह एवं दंड संहिताएं, पाठ्यपुस्तक दूसरे समुदायों की निंदा करते हैं, ऐसा तब तक होता है जब तक कि आपके यहां इस तरह की जिहादी संस्कृति जन्म नहीं ले लेती है जोकि पाकिस्तान में बड़े पैमाने पर दिख रही है !’ 

पाकिस्तान में #हिन्दू मंदिर तोड़े जाते हैं । #हिन्दू #महिलाओं के साथ दुष्कर्म किये जाते हैं । यहाँ तक कि उठाकर मुस्लिम बना दिया जाता है , श्मशान घाट तक नही है, #हिन्दुओं की हत्यायें की जाती है इतना हिन्दुओं पर अत्याचार किया जाता है फिर भी उनके लिए कोई आवाज उठाने के लिए तैयार नही है ।

बांग्लादेश में हिन्दुओं का बुरा हाल !!

1. बांग्लादेश में वर्ष 2016 में हिन्दुओंपर किए गए आक्रमणों में 18 हिन्दुओं की हत्याएं की गई तथा 357 हिन्दू घायल हुए हैं ! 

2. मंदिरों में स्थित देवताओं के 209 मूर्तियों की तोड़-फोड़ की गई, 22 मूर्तियों को चुराया गया।

3. 22 हिन्दू लापता हुए, साथ ही 38 लोगों का अपहरण किया गया है।

4. बांग्लादेश के 711 हिन्दू देश छोडकर चले गए अथवा उनको देश छोडकर जाने की धमकियां दी गई।

5. 1 हजार 109 हिन्दुओं को जान से मारने की धमकियां मिली हैं तथा 18 हिन्दुओं की हत्या करने का प्रयास किया गया।

भारत में भी मुस्लिमों की कम संख्या होते हुए भी आतंक बढ़ा है जैसे कि कश्मीर से पंडितो को भगाना, कैराना,अलीगढ़(उत्तर प्रदेश) में हिंदुओं का पलायन होना, लव जिहाद द्वारा हिन्दू बहनों को फंसाना , केरल में हिन्दू कार्यकर्ताओं की हत्या और भी भारत में जहाँ मुस्लिम अधिक है वहाँ पर हिंदुओं पर अत्याचार हो रहा है ।

कोई हिन्दू संत या कार्यकर्ता हिंदुओं की संख्या बढ़ाने को बोलता है तो उसपर मीडिया और सेकुलर लोग उनको बदनाम करते हैं लेकिन मुस्लिमों के आतंक पर चुप्पी साध लेते हैं!!

आज भी अगर भारत में हिंदुओं ने "हम दो हमारे दो" के सिद्धान्त को नहीं तोड़ा तो पाकिस्तान, बांग्लादेश जैसा हाल होने में देरी नही लगेगी । अतः हिन्दू सावधान रहें। 

मुस्लिम चार शादियां करके 40 बच्चे पैदा कर सकते है तो हिन्दू कम से कम 4-5बच्चे तो पैदा कर ही सकता है ।

No comments:

Post a Comment

टीवी सीरियल में धर्म का अपमान हुआ तो सरदारों ने प्रोड्यूसर को दो दिन में झुका दिया..

सितम्बर 23, 2017  वर्तमान में #मीडिया, #बॉलीवुड, #टीवी सीरियलों द्वारा हिन्दू धर्म के #देवी-देवताओं, #धर्मगुरुओं, #हिन्दू त्यौहारों की...